ब्लॉगिंग करने से हमारे लाइफ में कौन-कौन से बदलाव आते हैं

What changes do blogging bring in our lives? in Hindi

दोस्तों आज हम जानने वाले हैं Blogging करने से हमारे Life में कौन-कौन से बदलाव आते हैं । आप अंदाजा लगा सकते हैं कि कौन से परिवर्तन होता होगा जब आप Blogging करते हैं । यहां मैंने उन Points का Add किया जो मुझे लगता है कि यह परिवर्तन हमारे साथ होता है जब हम blogging करना शुरू करते हैं ।

ब्लॉगिंग करने से लिखने का आदत बनतता है ।

हर रोज लिखना बहुत ही अच्छी आदत है क्योंकि जितने भी ideas होते हैं वो सबसे पहले दिमाग निकल पेपर पर आते हैं । जब कोई ब्लॉगिंग शुरू करता है तो हो सकता है उसका लिखने का आदत ना हो लेकिन, अगर वो हर दिन लिखता है तो उससे उसका आदत बनते जाता है ।

हर रोज रात को सोने से पहले आपने जो कुछ भी सीखा है उसे कुछ पॉइंट (Point) में लिखना चाहिए । इससे आपको यह भी पता चलता है कि आप अपने लक्ष्य (Goal) को कब तक पूरा करेंगे और आपको कितनी मेहनत करनी पड़ेगी, अपने लक्ष्य तक पहुंचने के लिए । इन बातों को आप जान सकते हैं यदि आपको लिखने का आदत हो । ब्लॉगिंग आपको लिखने का आदत बनाने में मदद कर सकता है।

ब्लॉगिंग Comfort Zone से बहर निकालता है ।

Comfort Zone किसी भी इंसान को सफल होने से रोकती है। ब्लॉगिंग करने से हमें बार-बार Blog Post लिखाना पड़ता है इस वजह से ब्लॉगिंग हमें Comfort Zone से बाहर निकालने का बहुत अच्छा तरीका है ।

ब्लॉगिंग Confidence को बढ़ाता है ।

Confidence Build करने के कई तरीके होते हैं यदि आप Blogging करते हैं तो आपको पता होना चाहिए कि ब्लॉगिंग से भी Confidence Build किया जा सकता है पर सवाल है कैसे?

तो चलिए हम इस कैसे का जवाब जानते हैं । सकारात्मक सोच, किसी भी काम की तैयारी करना, लोगों से बात करना और अपने Field का Knowledge रखना यह बातें हमारे Confidence को बढ़ाता है और कुछ ऐसा ही ब्लॉगिंग से होता है ब्लॉगिंग से हमारा Knowledge बढ़ता है क्योंकि इसमें हमें काफी Research करना पड़ता है।

एक अच्छा ब्लॉगर नए-नए Skills सीखता है इसी नए-नए Skills को Apply करते-करते वह खुद की Ability और Capacity को बढ़ाता रहता है। जो उसे Confidence build करने में मदद करता है

ब्लॉगिंग नए लोगों से जुड़ने का मौका देता है ।

इंसान हमेशा अकेला नहीं रह सकता इसलिए जरूरी है कि वह अपने जैसे सोच रखने वाले लोगों के साथ जुड़े । जैसे एक डॉक्टर की दोस्ती दूसरे डॉक्टरों से ज्यादा होती है ठीक उसी तरह से एक Blogger की दोस्ती ज्यादातर ऐसे लोगों से ही होती है जो एक ब्लॉगर हो या जो क्रिएटिव हो । एक Blogger दूसरे ब्लॉगर के साथ Contact रखता है और कुछ इसी तरह एक ब्लॉगर अपना नेटवर्क बनाता है ।

ब्लॉगिंग सीखने का जरिया है ।

कहते हैं सीखने की कोई उम्र नहीं होती और इसी वजह से एक इंसान पूरी जिंदगी भर सीखता रहता है । लेकिन एक ब्लॉगर Normal लोगों से ज्यादा Knowledge रखता है। वह हमेशा नए चीजें सोचते रहता है ताकि उसका प्रयोग वह Blogging में कर सके ।

ऐसे जरूरी नहीं कि यह हर ब्लॉगर के साथ हो, पर जो ब्लॉगर Book Summary लिखता है, उसे काई Books पढ़ने पड़ते हैं। उसके Condition में ऐसा कह सकते हैं।

अब ऐसा भी नहीं है कि ब्लॉगिंग लोग केवल पैसे कमाने के लिए ही करते हैं कई लोग ऐसे भी हैं जो ब्लॉगिंग को अपने पसंद के लिए करते हैं ।

Blogger एक Process Repeat करता है पहले वह खुद सीखता है फिर दूसरों को सीखाता है

ब्लॉगिंग Creative बनाता है ।

ऊपर आपने पढ़ा “पहले वह खुद सीखता है फिर दूसरों को सीखाता है ।” इस सीखाने और सीखने की Process में Creativity भी शामिल हो सकता है क्योंकि कोई भी चीज को नया बनाने का तरीका है उसमें से कुछ Remove करना कोई चीज Add करना । जिससे काम पहले से आसान हो जाए।

Creativity का मतलब होता है किसी idea को Create करना जिससे काम आसान हो जाए ।

जैसे – Cycle में Motor लगाने के बाद वह एक Motorcycle बन जाता है। उसी तरह कोई तरीका ढूंढना जिससे किसी समस्या का हल निकले Creativity कहलाता है ।

यदि एक ब्लोगर किसी चीज को अलग तरीके से लिखता हो, तो वह धीरे-धीरे और अधिक Creative बनते जाता है इस तरह से Blogging Creative बनाता है ।

ब्लॉगिंग से आप सोते हुए भी पैसा कमा सकतें हैं ।

पिछले लेख में हमने बात किया था Blogging क्यों करना चाहिए, जिसमें हमने बात किया था पैसे कमाने के लिए भी आप ब्लॉगिंग कर सकते हैं । ब्लॉगिंग करने में एक और खास बात यह है कि ब्लॉगिंग से आप सोते हुए भी पैसा कमा सकते हैं । जब आप काम नहीं करते तब भी यदि आपके ब्लॉग पर Traffic आता है तौभी आप अपने ब्लॉग से पैसा कमा सकते हैं ।

कुछ Bloggers ऐसा भी है जो खुद Article नहीं लिखते पर दूसरे Freelancer से Article लिखवाते हैं, और अपने Blogs से पैसा कमाते हैं । यदि आप ऐसा करने का सोच रहे हैं तो सावधान रहें, इसमें नुकसान भी हो सकता है ।

ब्लॉगिंग से Communication Skill Develop होता है ।

Deepak Kanakraju जो इंडिया के Top Blogger की गिनती में आते हैं उनका कहना है कि आप ब्लॉगिंग से Communication Skill को Develop कर सकते हैं । यदि आपका लिखने का Speed बेहतर है, इसका मतलब है कि आपका सोचने का स्पीड भी अच्छा है। अगर आप स्पीड से सोच सकते हैं । तो आप लोगों के साथ ठीक ढंग से बात भी कर सकते हैं।

कुछ लोग मानते हैं कि इंग्लिश में बात करना Communication Skill होता है लेकिन ऐसा नहीं है Communication Skill यानी कि आप जो बात लोगों से को समझाना चाहते हैं उसे समझा पाना ही Communication Skill है यदि आप लोगों को वह समझा पाते हैं जो आप लोगों को समझाना चाहते थे तो आपकी Communication Skill अच्छी है ।

ब्लॉगिंग अकेलापन महसूस नहीं होने देता ।

अकेलापन – बहुत सारे लोगों को अकेलापन महसूस होता है जो बहुत ही खतरनाक है क्योंकि अकेलापन Depression का पहला Stage है । जिसमें एक इंसान अपने आप को अकेला महसूस करता है। डिप्रेशन का experience मेरे को थोड़ा बहुत है इसलिए मैं आपको यह बता सकता हूं कि ब्लॉगिंग आपको अकेलापन महसूस होने से बचाता है।

ब्लॉगिंग करने में सोचने का काम ज्यादा होता है ऐसा यह न समझे कि मैं Stress लेने को बोला रहा हूं । सोंचने से मेरा मतलब है उसके बारे में गहराई से विचार करना । ताकि लेख को ऐसे प्रस्तुत करें, जिससे पढ़ने वाले boring ना हो ।

ब्लॉगिंग Critical Thinking Ability को Develop करता है ।

इस पॉइंट को इसलिए जोड़ा गया है ताकि आप यह भी जान पाएं, ब्लॉगिंग आपकी Critical Thinking Ability को Develop कर सकता है अगर आप कोई Problems का Solutions अपने ब्लॉक कर देते हैं जिसका Solution इंटरनेट पर Available नहीं है। इस तरह के काम करने से आपका Critical Thinking Skill Develop होता रहेगा ।

Leave a Comment

Ads Blocker Image Powered by Code Help Pro

Ads Blocker Detected!!!

We have detected that you are using extensions to block ads. Please support us by disabling these ads blocker.

Powered By
Best Wordpress Adblock Detecting Plugin | CHP Adblock